• Home |
  • Cpr Training

Cpr Training

 

CPR Workshops 'Save-A-Heart' initiative


Cardio-pulmonary resuscitation for general public - focuses on bystander response in cardiac emergencies - module includes hands on training on life-size mannequin. The purpose of this initiative is to educate & train people from different walks of life so that they can be useful to themselves & society and save a heart one day.


We provide experts & audio-visual aids towards this initiative. We plan to spread the initiative through corporate & social organizations. The target audience is general public. HeartWise has acquired 7 mannekins for CPR training purpose.


Heart Wise regularly conducts Cardio Pulmonary Resuscitation (CPR) Workshops to train common people emergency life saving techniques. Heartwise has organized 20 such workshops and has 3000 people trained in them.


CPR saves lives. Statistics show that the earlier CPR is initiated, the greater the chances of survival. In fact, 100,000 to 200,000 lives of adults and children could be saved each year if CPR were performed early enough.(according to the American Heart Association estimates) CPR doubles a person's chance of survival from sudden cardiac arrest.


CPR is a first aid technique that can be used if someone is not breathing properly due to some accidents or heart attack or if their heart has stopped due to any injury. Chest compressions and rescue breaths keep blood and oxygen circulating in the body.

To organize a CPR training camp in your community/ institute you can contact the following Heartwise members


Mr Kamaldeep Singh : 9829035889
Mr Anish Khandelwal : 9694200000
Mr Vikash Sharma : 9414077749
Mr Himanshu Arora : 8003006800
Mail: teamheartwise@gmail.com
क्या है सीपीआर

इस विधि से हृदयाघात, एक्सीडेंट समेत कई मामलों में उपचार कर 80 फीसदी लोगों की जान बचाई जा सकती है।
सीपीआर को हिंदी में संजीवन क्रिया भी कहते है। यह ऐसी क्रिया है, जो उस समय काम में ली जाती है, जब कोई दुर्घटनाग्रस्त व्यक्ति बेहोश हो जाता है। वह सांस नहीं ले पा रहा होता और उसके शरीर में खून का प्रवाह रूक जाता है। इस विधि के जरिए चिकित्सकीय सहायता मिलने तक हम पीडि़त व्यक्ति को जीवित रख सकते है। सीपीआर में दो कार्य किए जाते है। सीपीआर की जरुरत हृदयाघात, गला घुटने, पानी में डूबने, बिजली का झटका लगने, धुएं या जहरीली गैस से दम घुटने जैसे हादसों के समय पड़ती है।

1. मुहं से मुहं में सांस भरना
2. छाती को दबाना


इस विधि के जरिए हम अचेत व्यक्ति की शरीर की श्वसन क्रिया और खून का संचार जारी रखते है। यदि इनमें से एक भी शरीर में चार मिनट से ज्यादा बंद रहती है तो हमारे मस्तिष्क को आक्सीजन की आपूर्ति बंद हो जाती है और दस मिनट बाद मस्तिष्क की कोशिकाएं मृत हो जाती है, जिसे हम ब्रेन डेड भी कहते है।
**************
*हृदयाघात में कारगर*

वर्तमान में हृदयाघात सबसे ज्यादा लोगों की मौत का कारण बन रहा है। भारत हृदय रोगियों के मामले में विश्व की राजधानी बन गया है। हमारे देश में युवा तेजी से हृदय रोग का शिकार हो रहे है। हृदयघात के समय तत्काल उपचार नहीं मिलने के कारण कई लोगों की मौत हो जाती है। ऐसे मौके पर यदि हमें सीपीआर तकनीक आती है तो उसके जरिए रोगी का प्राथमिक उपचार कर उसे अस्पताल तक जीवित पहुंचा सकते है।
We are an incorporated society in the name of HEARTWISE which is dedicated to promote health awareness among the citizens and how small changes in day to day life can create big changes in improving upon the health. India, as we all know, is the Heart Disease capital of the world. The motive behind this group was to create awareness regarding lifestyle prevention for heart disease.

Copyrights@ 2016-17. All rights reserved | Host & Design by: Mind Wave (IT Solutions)